गर्दन की अकड़न में लापरवाही आप के घातक साबित हो सकती हे

1

लम्बे समय तक बैठ के काम करने से कभी-कभी गर्दन में अकड़न आ जाती है। इसके अलावा भी कई एनी कारण है जिनकी वजह से लोगों को इस परेशानी की शिकायत हो जाती है। इसका यदि समय पर उपचार नहीं किया जाता है तो धीरे धीरे इसके कारण सिर, कंधों और हाथों में भी दर्द शुरू हो जाता है। शुरू में यह कोई गंभीर समस्या नहीं लगती परन्तु यदि इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो बाद में यह एक गंभीर समस्या बन सकती है।

गर्दन में अकड़न : कुछ घरेलू उपचार

इसके कारण आपके दैनिक कार्य प्रभावित होते हैं। आपको सोने में भी तकलीफ हो सकती है। यहाँ गर्दन की अकड़न को दूर करने के लिए 6 घरेलू उपचार बताए गए हैं। इन्हें आजमा कर आप इस परेशानी से निजात पा सकते हैं।

  1. नारियल के गर्म तेल से मसाज:थोडा सा नारियल का तेल लें और इसे गरम करें। गर्म पानी से नहाने के बाद गर्दन की प्रभावित जगह पर इस गरम नारियल तेल से मसाज करें। इससे आपको आराम मिलेगा।
  2. सरसों के गर्म तेल से मसाज:गर्दन की जकड़न को दूर करने के लिए सरसों का तेल एक अच्छा विकल्प है। थोडा सा सरसों का तेल लें, इसे गर्म करें और प्रभावित जगह पर लगायें।
  3. कोल्ड कम्प्रेस (ठंडा सेंक):एक साफ़ टॉवेल लें, इसमें कुछ बर्फ़ के टुकडें डालें और इसे गर्दन पर रखें। इसे 10 मिनिट तक रखें और बाद में हटा दें। ऐसा 5-6 बार करें। यह दर्द को दूर करने के साथ जकड़न को भी दूर करता है।
  4. हॉट कम्प्रेस (गर्म कम्प्रेस):गर्म पानी की के बोतल या गर्म पानी में भीगा हुआ टॉवेल लें तथा जकड़ी हुई गर्दन पर लगभग 10 मिनिट तक रखें। इससे रक्त प्रवाह बढ़ता है और जकड़न कम होती है।
  5. सेंधा नमक से नहाना:सेंधा नमक सूजन और गर्दन की जकड़न को कम करता है। नहाने के पानी में 4-5 चम्मच सेंधा नमक मिलाएं और इस पानी से नहायें। और यदि संभव हो तो अपनी गर्दन को सेंधा नमक के पानी में डुबाकर रखें।
  6. हल्दी:हल्दी में सूजन रोधी गुण पाए जाते हैं। एक चम्मच हल्दी लें और उसे एक गिलास दूध में मिलाएं। इसे अच्छे से मिलाएं और गर्म करें। इसे दिन में दो बार शहद के साथ पीयें। इससे दर्द और जकड़न कम होती है।

शेयर करें