नोटबंदी का असर, ये हे देश के गद्दार, इसमें शामिल हे पाकिस्तानी कलाकार

13

भारत में काम करने वाले कई पाकिस्तानी फिल्म अभिनेता-अभिनेत्रियां और गायक यहां की गई कमाई को काले धन में बदल रहे हैं। नेटवर्क 18 समूह के चैनल न्यूज-18 इंडिया ने एक स्टिंग ऑपरेशन में ये चौंकाने वाला पर्दाफाश किया है। मुंबई और दिल्ली में पिछले 15 दिनों के दौरान किया गया ये स्टिंग ऑपरेशन भारत में काम करने वाले कई बड़े पाकिस्तानी फिल्म कलाकारों को बेनकाब करता है। स्टिंग ऑपरेशन से साफ है कि ये कलाकार अपने मेहनताने का बड़ा हिस्सा ब्लैक मनी के तौर पर लेते हैं और गैरकानूनी तरीके से उसे विदेश तक भिजवाते हैं।

न्यूज18 इंडिया का स्टिंग ऑपरेशन ‘नमक हराम’ में जिन पाकिस्तानी कलाकारों के चेहरे से नकाब हटता है वो हैं मशहूर अभिनेता और हाल ही में करण जौहर की फिल्म ए दिल है मुश्किल में नजर आए हीरो फवाद खान, रूहानी गायक कहे जाने वाले राहत फतेह अली, शफकत अमानत अली, मवारा होकेन और इमरान अब्बास।

इन तमाम पाकिस्तानी कलाकारों के एजेंट और मैनेजर खुफिया कैमरे पर अपनी फीस ब्लैक में मांगते हुए कैद हुए हैं। कुछ ने तो यहां तक कहा कि उन्हें ये रकम कैश में दी जाए और वो इसे ले जाने का इंतजाम खुद कर लेंगे। वहीं कुछ ने इसे ऑस्ट्रेलिया या दुबई के बैंक खातों में जमा करवाने की मांग तक की।

पाकिस्तानी कलाकार विदेश मंत्रालय की ओर से जारी वर्क परमिट पर भारत आते हैं। ये परमिट उन्हें भारत में काम करने के लिए दिया जाता है, लिहाजा काला धन मांगना सीधी-सीधे भारतीय कानूनों तो तोड़ना है। ब्लैक मनी की मांग करना सर्विस टैक्स और आयकर से जुड़े कानूनों का भी उल्लंघन है।

न्यूज18 इंडिया के स्टिंग ऑपरेशन में 5 पाकिस्तानी अभिनेता-अभिनेत्री और गायकों के भारतीय एजेंट और मैनेजर कैद हुए। ये स्टिंग ऑपरेशन चैनल के अंडरकवर रिपोर्टर ने किया। ये एजेंट और मैनेजर अपने पाकिस्तानी क्लाइंट के शादियों में आने और डांस करने की डील करते दिखे। उन्होंने खुल कर अपने क्लाइंट के लिए फीस ब्लैक में मांगी।

उनके मैनेजरों ने कहा कि कागज पर जो कॉन्ट्रैक्ट बनेगा उसमें फीस का सिर्फ एक छोटा हिस्सा ही दर्शाया जाएगा। एक मामले में तो पाकिस्तानी कलाकार के एजेंट या मैनेजर ने जो कॉन्ट्रैक्ट साइन किया वो असली रकम का दस फीसदी भी नहीं था। साफ है कि इसका मकसद ब्लैक मनी हासिल करना, सरकार को धोखा देना और टैक्स के नाम पर चूना लगाना था।

फिल्म स्टार फवाद खान के मैनेजर ने न्यूज 18 इंडिया के स्टिंग ऑपरेशन में एक निजी समारोह में दो घंटे के लिए आने के बदले 50 लाख रुपये मांगे। उसने कहा कि ये पैसे उसे ‘ब्लैक और व्हाइट’ दोनों में चाहिए। डील का 25 फीसदी हिस्सा ब्लैक में देना होगा जबकि बाकी पैसे फवाद खान के यूएई के बैंक खातों में जमा करवा दिए जाएं।

गायक शफकत अमानत अली के मैनेजर ने एक निजी समारोह में दो घंटे गाने के लिए बाकायदा 25 लाख रुपये मांगे। यहां भी मांग थी कि ये पैसा ब्लैक और व्हाइट में चाहिए। कॉन्ट्रैक्ट में टैक्स समेत सिर्फ 8 लाख रुपये दिखाए जाएं और बाकी बची रकम ब्लैक में दी जाए।

अभिनेता इमरान अब्बास के मैनेजर ने निजी समारोह में दो घंटे का कार्यक्रम करने के बदले 35 लाख रुपये मांगे। उसने 32 लाख ब्लैक में मांगे जबकि कागज में कॉन्ट्रैक्ट पर सिर्फ 3 लाख रुपये दर्शाए जाएंगे।

अभिनेत्री मवारा होकेन के पाकिस्तानी मैनेजर ने तो दो घंटे के कार्यक्रम में शिरकत करने के 50 लाख रुपये मांगे। उसने शर्त रखी कि मुंबई में उसके एक जानकार के पास 25 लाख रुपये कैश भिजवा दिए जाएं और बाकी रकम सीधे उसके ऑस्ट्रेलिया के बैंक खाते में जमा करवा दी जाए।

गायक राहत फतेह अली खान के मैनेजर ने तो दो घंटे गाने के लिए 65 लाख रुपये तक मांग लिए। गायक के मैनेजर ने साफ कहा कि इस रकम में से 42 लाख ब्लैक में चाहिए और कागज पर सिर्फ 23 लाख की डील दिखाई जाए। ये कैसा इत्तेफाक है कि राहत फतेह अली खान फरवरी 2011 में इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर पकड़े गए थे जब रिवन्यू इंटेलिजेंस महानिदेशालय ने उन्हें पकड़ा था। वह उस वक्त करीब 60 लाख रुपये की ब्लैक मनी ले जा रहे थे। उन्हें जुर्माना देने के बाद छोड़ा गया था।

शेयर करें